Friday, June 22, 2018

नया भारत पार्टी कर्नाटक ( Naya Bharat Party in Karnataka) चुनावों में अपने उम्मीदवार उतारेगी !  

नया भारत पार्टी कर्नाटक चुनावों में अपने उम्मीदवार उतारेगी ! 

 

विश्वस्त सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार नया भारत पार्टी (Naya Bharat Party) मई, 2018 में होने वाले कर्नाटक चुनावों (Karnataka Assembly Elections) में अपने उम्मीदवार उतारेगी. मिली जानकारी के अनुसार नया भारत पार्टी ने चुनाव आयोग को सूचित किया कि पार्टी कम से कम 25 सीटो पर अपने उम्मीदवार उतारेगी जिसके लिए पार्टी ने चुनाव चिन्ह के लिए आवेदन किया है.

मिली जानकारी के अनुसार नया भारत पार्टी  ने अपने उम्मीदवारों के चयन के लिए आवेदन पत्र (Application for Candidature) भी जारी कर दिया है. पार्टी ने यह आवेदन पत्र english  में  ऑनलाइन जारी किया है जो कि पार्टी की वेबसाइट nayabharatparty.in पर प्रकाशित किया गया है जिसे वेबसाइट पर से डाउनलोड किया जा सकता है. यह आवेदन पत्र कुल 6 पेज का है जिसमे उम्मीदवार चयन के लिए  650 में से नंबर देने की व्यवस्था भी है.

जब पार्टी अध्यक्ष कैलाश चंद्रा से इस सम्बन्ध में पूछा तो उन्होंने इसे सही बताया और स्पष्ट किया कि उनकी पार्टी ने कर्नाटक विधान-सभा चुनावों के लिए चुनाव चिन्ह माँगा है और पसंदीदा चुनाव चिन्ह मिल जाने पर पार्टी कम से कम 25 सीटो पर चुनाव लडेगी. पार्टी अध्यक्ष के साथ हुई पूरी बातचीत को यही नीचे पाठको की जानकारी के लिए प्रकाशित किया जा रहा है –

प्रश्न : नया भारत पार्टी ने चुनाव आयोग से कोनसा पसंदीदा चुनाव चिन्ह (Choicest Election Symbol) चुनाव आयोग (Election Commission) से  माँगा है ?

कैलाश चंद्रा : कर्नाटक के लिए चुनाव चिन्ह को लेकर चुनाव आयोग से विवाद हो गया है, अत: चुनाव चिन्ह को अभी सार्वजनिक नहीं करना चाहूंगा. लेकिन उम्मीद करता हूँ, शीघ्र ही इस मामले में अंतिम निर्णय हो जाएगा.

प्रश्न : चुनाव चिन्ह को लेकर चुनाव आयोग से किस तरह का विवाद है ?

कैलाश चंद्रा : चुनाव आयोग के अनुसार हमारा पसंदीदा चुनाव चिन्ह किसी अन्य पार्टी से मिलता-जुलता (Resembling Symbol) है लेकिन हमारी पार्टी इससे सहमत नहीं है.

प्रश्न : चुनाव चिन्ह को लेकर चुनाव आयोग से विवाद के चलते आप चुनाव केसे लड़ेंगे ?

कैलाश चंद्रा :  चुनाव आयोग के फेसले के विरूद्ध हमारी पार्टी ने अपनी लिखित आपति (Written Objection) दर्ज करवाई है. मामला सुप्रीम कोर्ट तक भी जा सकता है. विवाद समाप्त होने के बाद ही हमारी पार्टी अपने पसंदीदा चुनाव चिन्ह पर ही कर्नाटक में चुनाव लडेगी.

प्रश्न : क्या पसंदीदा चुनाव चिन्ह नहीं मिलने पर आपकी पार्टी चुनाव नहीं लडेगी ?

कैलाश चंद्रा :  हमें पूरा विश्वास है कि अंतत: चुनाव आयोग हमें हमारा पसंदीदा चुनाव चिन्ह  आबंटित कर देगा. लेकिन इस लम्बी चलने वाली लड़ाई में ज्यादा देरी  हो जाने पर बहुत कम समय बचेगा. उस देरी की स्थिति में हो सकता है पार्टी चुनाव नहीं भी लडे. वेसे नीतिगत निर्णय यह है कि हम पसंदीदा चुनाव चिन्ह पर ही कर्नाटक में चुनाव लड़ेंगे. 

प्रश्न : लगता है शुरूआत से ही आपकी पार्टी संघर्ष के मूड में है ?

कैलाश चंद्रा :  व्यवस्था परिवर्तन के लिए यह नई पार्टी बनाई गयी है. अत: यदि चुनाव आयोग, सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) से प्रदिपादित Principles Of Natural Justice (प्राकृतिक न्याय के सिद्धांत) व संविधान प्रदत Right Of Equality (समानता का  अधिकार) का हनन करता है तो पहले हम न्याय के लिए पूर्ण संघर्ष करेंगे और फिर चुनाव लड़ेंगे. हमारा यह संघर्ष भी ऐतिहासिक होगा क्योकि ऐसे विषय पर पूर्व में किसी भी पार्टी ने आपत्ति या विरोध नहीं किया. 

Report by Manish Mewara, Jaipur.

Related Post

Add a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Report by Kali pada Pramanik.13/06/2018: Renowned Social Worker and senior Advocate Kali pada Pramanik , social worker Futai Sadhukhan, saiful sk and Renowned social ...

SiteLock