Friday, December 14, 2018

आईटीओ राजेंद्र बोथरा पर भ्रष्टाचार व आदर्श ग्रुप सिरोही के साथ मिलीभगत का आरोप – नया भारत पार्टी द्वारा कार्यवाही की मांग  

भ्रष्टाचार व आदर्श ग्रुप सिरोही के साथ मिलीभगत के आरोपी आयकर अधिकारी राजेंद्र बोथरा (जोधपुर – राजस्थान) के खिलाफ धीमी गति से कार्यवाही कर उसे संरक्षण देने के विरूद्ध तत्काल कार्यवाही की मांग

 

नया भारत पार्टी (Naya Bharat Party) के अध्यक्ष (Party President) श्री कैलाश चंद्रा  (Kailash Chandra) ने माननीय प्रधान मंत्री (PM) व चेयरमैन केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) को एक लिखित ज्ञापन भेजकर मांग की है कि  भ्रष्टाचार के आरोपी व क़ानून से ऊपर चलने वाले आयकर अधिकारी राजेंद्र बोथरा / Income-tax Officer Rajendra Bothara (जोधपुर – राजस्थान) के खिलाफ धीमी गति से कार्यवाही कर उसे संरक्षण देने के विरूद्ध तत्काल कार्यवाही की मांग की है.

पार्टी के अध्यक्ष ने प्रधान मंत्री व चेयरमैन केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड को भेजे गए संयुक्त ज्ञापन में मांग की है कि भारत सरकार के वर्तमान में जोधपुर आयकर विभाग (Jodhpur Income-tax Department) में कार्यरत राजेंद्र बोथरा नामक अधिकारी के खिलाफ बीसियों शिकायते हुई है लेकिन उसे उच्च स्तरीय संरक्षण (High Level Protection) के चलते उसके विरूध्द बहुत ही धीमी गति से कार्यवाही की जा रही है तथा एक तरह से उसे बचाने का प्रयास किया जा रहा है. ऐसा लगता है कि वर्त्तमान सरकार व उसके अधिकारियो को ऐसे भ्रष्ट (Corrupt)  व क़ानून से ऊपर चलने वाले अधिकारी के खिलाफ कार्यवाही करने में कोई दिलचस्पी नहीं है.

पार्टी के अध्यक्ष द्वारा इस ज्ञापन में इस अधिकारी के खिलाफ निम्न गंभीर आरोप लगाए  गए है – 

1.          जालोर के एक व्यापारी से इसने 5.00 लाख रूपये की मांग की लेकिन व्यापारी द्वारा मना करने पर उसके खिलाफ सर्वे करवा डाला.

2.         उस पार्टी ने सर्वे का विरोध किया और शिकायत की तो उसके कम से कम 8 मामलों में आयकर की धारा 148  ( Sec. 148 of Income-tax Act) में बिना किसी कारण के केस रि-ओपन (Re-open) कर डाले थे जो कि उच्च स्तरीय शिकायत के बाद गलत पाए गए थे.

3.          इस अधिकारी ने कुछ ही महीनो में रिश्वत की वसूली के लिए जालोर में उपरोक्त 8 केस सहित 72 केस आयकर धारा 148 में बिना किसी वाजिब कारण के रि-ओपन कर डाले थे. 72 केस में ऐसी कार्यवाही राजस्थान तो क्या शायद पूरे देश का एक काला रिकॉर्ड (Black Record) था. लगभग इन सभी मामलों में सरकार को रेवेन्यु भी कुछ नहीं मिला था या नाम मात्र का ही मिला था.

4.          यह अधिकारी सिरोही (राजस्थान) के आदर्श ग्रुप (Adarsh Group Sirohi) को आयकर विभाग के खिलाफ कंसल्टेंसी देता था और उस आदर्श ग्रुप की आयकर सर्च – 2010 के (Income-tax Search Against Adarsh Group) दोरान बड़ी रिश्वत लेकर करोड़ो की नकदी रकम को सीज नहीं किया था.

5.          सुमेरपुर आयकर कार्यालय (Sumerpur Income-tax Office) की एक डाक को इसके ट्रान्सफर हो जाने के बाद गायब / चोरी कर या करवा दिया था. 

6.          इसने बिना सरकारी स्वीकृति व कानूनी अधिकार के एक सीए के खिलाफ शिकायत कर डाली. जब इस मामले की आपत्ति हुई तो उसके सभी सरकारी दस्तावेज (Government Documents) व शिकायत (Complaint) को निजी (Private) बना डाला और सरकारी कागजातों को भी अपनी निजी सम्पति (Private Property) बना डाला. यही नहीं, एक बेनामी (टी.सी.गुप्ता – T C Guptaके नाम से) शिकायत (Benami Complaint)  के लिए सहायक आयकर आयुक्त केन्द्रीय वृत्त-1, जोधपुर ( Assistant Commissioner of Income-tax Central Circle-1 Jodhpur) के नाम का फर्जी दस्तावेज का भी इश्तेमाल किया था क्योकि उस समय का अधिकारी आदर्श ग्रुप (Adarsh Group) मामले में इसकी सिफारिश नहीं मान रहा था. तब उस अधिकारी की भी सीबीआई (CBI) में शिकायत करवाई गयी थी.   

7.          इस अधिकारी के खिलाफ तीन-तीन फोजदारी मुकदमे सुमेरपुर के दो कोर्ट में (Sumerpur Courts) चल रहे है जिसका सम्बन्ध भी उसकी विभागीय कुर्सी से ही है. 

8.          इस अधिकारी की सीबीआई जोधपुर (CBI Jodhpur) व आयकर ट्रिब्यूनल (Incometax Tribunal) तक में तगड़ी सेटिंग है जिससे सीबीआई व आयकर ट्रिब्यूनल के मार्फ़त सरकारी अफसरों व कर-दाताओं को परेशान करवाता है और झूठे केस भी बनवाता है. 

पार्टी के ज्ञापन में यह भी लिखा गया है कि इस तरह की अनेको शिकायते इस राजेन्द्र बोथरा के खिलाफ लंबित है लेकिन आज दिन तक किसी भी शिकायतकर्ता से न तो कोई पूछताछ की गयी और न ही कोई सबूत माँगा गया जिससे स्पष्ट होता है कि उसे उच्च स्तरीय राजनीतिक व सरकारी संरक्षण मिला हुआ है. 

ज्ञापन के अंत में मांगमय निवेदन किया कि इस क़ानून से ऊपर चलने वाले भ्रष्ट अधिकारी राजेंद्र बोथरा को तुरंत नोकरी से निलम्बित किया  जाए व उसको बचाने वाले अधिकारियों के विरूद्ध भी तुरंत उचित दंडात्मक कार्यवाही की जानी चाहिए. पार्टी अध्यक्ष ने इस मामले में सबूत-साक्ष्यो को  उपलब्ध कराने का भरोसा भी दिलाया. उल्लेखनीय है कि राजेन्द्र बोथरा जालोर, सुमेरपुर व पाली में आयकर अधिकारी रह चुका है तथा वर्तमान में आयकर विभाग के जोधपुर मुख्यालय पर नॉन-असेसमेंट पोस्ट पर कार्यरत है. पिछले कई वर्षो से इसे नॉन-असेसमेंट पोस्ट पर लगा रखा है. ज्ञात रहे कि आदर्श ग्रुप से अर्थ आदर्श बैंक ( Adarsh Bank) व आदर्श क्रेडिट कोपरेटिव सोसाइटी (Adarsh Credit Cooperative Society Limited) सहित आदर्श ग्रुप के मुखिया ( Adarsh Group Head) मुकेश मोदी ( Mukesh Modi) से जुड़े लोगो से है.  

Demand of Naya Bharat Party for Action against ITO Rajendra Bothara and his God Fathers

 

Related Post

Add a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

पेट्रोल-डीजल की खुदरा कीमतों के निर्धारण में जनता को लूटा जा रहा है – नया भारत पार्टी

पेट्रोल-डीजल की खुदरा कीमतों के निर्धारण में जनता को लूटा जा रहा है – ...

पेट्रोल-डीजल की खुदरा कीमतों के निर्धारण में जनता को लूटा जा रहा है – नया भारत पार्टी (Naya Bharat Party)   देश में पेट्रोल-डीजल ...

SiteLock