Thursday, February 22, 2018

Extraordinary – असाधारण

आधुनिक विज्ञान से विकास हो रहा हैं याँ विनाश। भारतीय पुरातन ज्ञान (भाग -58)-

व्यक्ति जिन बाहरी ज्ञानेन्द्रियों से विषयों को ग्रहण करता हैं, उसका मूल प्राप्ति स्थल हमारा मन ही होता हैं। शब्द, स्पर्श, रूप, रस, गन्ध इन सभी विषयों को हमारा मन ही ग्रहण करता हैं, इस बात का अध्ययन हम स्वयं से ही कर सकते हैं। हमारी ज्ञानेन्द्रियों के सभी उपकरण तो, शरीर के बाहरी भाग में  मौजूद रहते हैं, ...Full Article

आधुनिक विज्ञान से विकास हो रहा हैं याँ विनाश। भारतीय पुरातन ज्ञान (भाग-57)-

इस जगत को झूठा बताया गया हैं। मायारूप कहा गया हैं। जहाँ हर घड़ी हर पल परिवर्तन होता रहता हैं, उसे असत्य माना जाता हैं। सत्य उसे कहा जाता ...Full Article

आधुनिक विज्ञान से विकास हो रहा हैं याँ विनाश। भारतीय पुरातन ज्ञान (भाग-56)-

अब तक हमने आधुनिक विज्ञान की कार्यशैली व उसकी खोजो बाबत बात की हैं, इसमें कहाँ पर चूक हो रही हैं, विज्ञान द्वारा हमें सुख शांति ऐश्वर्य क्यों प्राप्त ...Full Article

आधुनिक विज्ञान से विकास हो रहा हैं याँ विनाश। भारतीय पुरातन ज्ञान (भाग-55)-

आज विज्ञान की ही देन हैं, कि हम प्रकृति से दूर हो गए हैं। विज्ञान ने हमें कृत्रिम सुविधाएँ उपलब्ध करा दी। इससे प्रकृति व पर्यावरण पर गहरा दुष्प्रभाव ...Full Article

आधुनिक विज्ञान से विकास हो रहा हैं याँ विनाश। भारतीय पुरातन ज्ञान (भाग-54)-

आधुनिक विज्ञान हमारे शरीर के बारे में काफी जानकारियां जुटा चुका हैं, परन्तु हमारे बारे में विज्ञान बहुत कम जान पाया हैं। आज व्यक्ति शिक्षा को ज्ञान का पर्याय ...Full Article

आधुनिक विज्ञान से विकास हो रहा हैं याँ विनाश। भारतीय पुरातन ज्ञान (भाग-53)-

प्राचीन काल में मनुष्य का मन पर नियन्त्रण होता था। इस नियन्त्रण के पीछे मुख्य हाथ प्रकृति का ही होता था। उस समय प्रकृति, आज की तरह अशुद्ध नहीं ...Full Article

आधुनिक विज्ञान से विकास हो रहा हैं याँ विनाश। भारतीय पुरातन ज्ञान (भाग-49)-

रामायण की बातें त्रेता युग की हैं, कई लोग इसे सही नहीं मानते हों अथवा इन्हें काल्पनिक मानते हों तो द्वापर युग की बात करते हैं, जिसमें महाभारत का ...Full Article

आधुनिक विज्ञान से विकास हो रहा हैं याँ विनाश- भारतीय पुरातन ज्ञान (भाग-47)

आधुनिक विज्ञान से विकास हो रहा हैं याँ विनाश- भारतीय पुरातन ज्ञान (भाग-47)   आध्यात्म ज्ञान के अनुसार सूक्ष्म शरीर के अंदर एक और तीसरा शरीर हैं, जिसे कारण ...Full Article

आधुनिक विज्ञान से विकास हो रहा हैं याँ विनाश। भारतीय पुरातन ज्ञान (भाग-46)-

हमारा आधुनिक विज्ञान जीवन के मूलभूत रहस्यों को जानकर अपने विकास की राह तय करता, यदि विज्ञान हमारे शरीर की रचना के बारे में बताये गए वैदिक ज्ञान को ...Full Article

राजस्थान : अस्पताल में आत्मा लेने पहुचे

  राजस्थान में कोटा के सरकारी एमबीएस अस्पताल में एक बार फिर कुछ ग्रामीण अपने मृत परिजन की आत्मा लेने पहुंच गए। इन ग्रामीणों ने अस्पताल के न्यूरो सर्जरी ...Full Article

न्यूटन का गुरूत्वाकर्षण का सिद्धान्त गलत हैं – भारतीय पुरातन ज्ञान (भाग-18)

न्यूटन का गुरूत्वाकर्षण का सिद्धान्त गलत हैं – भारतीय पुरातन ज्ञान (भाग-18) वायु तत्त्व की प्रकृति व कार्य प्रणाली जब हम पूर्णतया समझेंगें, तब ही हमें पूरी बात समझ ...Full Article
रविशंकर प्रसाद जी, क्या झूठ बोलकर या धमकाकर बोलने से ही झूठ सच बन जाता है – 20000 करोड़ पीएनबी-मोदी घोटाला !

रविशंकर प्रसाद जी, क्या झूठ बोलकर या धमकाकर बोलने से ही झूठ सच बन जाता...

रविशंकर प्रसाद जी, क्या झूठ बोलकर या धमकाकर बोलने से ही झूठ सच बन जाता है – 20000 करोड़ पीएनबी-मोदी घोटाला !    पीएनबी-मोदी ...

Page 1 of 212
SiteLock