Saturday, September 23, 2017

नए पेन कार्ड (Pan Card) पर भी पता (Address) क्यों नहीं ?  

नए पेन कार्ड (Pan Card) पर भी पता (Address) क्यों नहीं ?

New Pan Card Designभारत में पेन कार्ड दिनोदिन एक महत्वपूर्ण व कई कार्यो के लिए अनिवार्य दस्तावेज / परिचय प्रूफ बन चुका है लेकिन यह एक अधूरा परिचय पत्र / दस्तावेज है क्योकि इसमे पेनकार्ड होल्डर का पता (Address) नहीं लिखा होता है. आखिरकार, प्रश्न यह उठता है कि पेनकार्ड पर पेनकार्ड होल्डर का पता (Address) क्यों नहीं प्रिंट किया जाता है ?

भी हाल ही ताजा घोषणा हुई है कि 01.01.2017 से जारी होने वाले सभी पेनकार्ड नई डिजाईन के होंगे तथा उसमे सामग्री हिन्दी व अंग्रेजी दोनों भाषाओं में प्रिंट की जायेगी. यह तो बहुत अच्छी बात है लेकिन कुछ मामले ओर भी है जिस पर शायद सरकार का ध्यान नहीं है, अत: इस लेख के माध्यम से सरकार से आग्रह व मांग है कि जारी किये जाने वाले नए पेनकार्ड में निम्न बातो व आवश्यक जरूरतों का भी ध्यान रखा जाए जिससे पेनकार्ड एक अच्छा, सम्पूर्ण दस्तावेज व आइडेंटिटी प्रूफ / कार्ड बन सके –

  1. सही हिन्दी शब्द :भारत सरकार को ख्याल होना चाहिए कि अंग्रेजी शब्द के हिन्दी में एक से ज्यादा शब्द भी हो सकते है जिसमे से सही शब्द का सलेक्शन केसे होगा? ऐसी हजारो गलतिया आधार में देखी गयी है. उदाहरण के लिए मेरा उपनाम (सरनेम) अंग्रेजी में “Moondra “ है तथा हिन्दी में सही उपनाम (सरनेम) “ मूंदड़ा “ है लेकिन ऑटोमाटिक हिन्दी में बदलने पर यह उपनाम (सरनेम) “ मूंदरा “ या “ मुंद्रा “ प्रिंट हो सकता है जो कि गलत होगा. अत: आवेदक से उसके सही हिन्दी शब्द भी आवेदन में माँगने चाहिए. ताकि सही हिन्दी शब्द प्रिंट हो सके. अन्यथा गलत हिन्दी के साथ नई गलतिया शुरू हो जायेगी.
  1. पेन कार्ड पर पता : दूसरा एक महत्वपूर्ण आग्रह / मांग यह है कि पेनकार्ड की पीछे की तरफ पर्याप्त स्थान है जिसमे उसका पता (Address) भी प्रिंट किया जाना चाहिए, जिससे पेन कार्ड एक अच्छा, सम्पूर्ण दस्तावेज व आइडेंटिटी प्रूफ / कार्ड बन जाएगा.
  1. मुफ्त पेन कार्ड : साथ ही आधार कार्ड की तरह पेनकार्ड भी मुफ्त में मिलना चाहिए तथा कम से कम पहले नए कार्ड के लिए कोई शुल्क नहीं वसूला जाना चाहिए.

New Pan Card Design

Related Post

Add a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जीएसटी (GST) से सरकारी ठेकेदार (Civil Contractors) बर्बादी के कगार पर – कई विकास कार्य रुके (Development Held Up).

जीएसटी (GST) से सरकारी ठेकेदार (Civil Contractors) बर्बादी के कगार पर – कई विकास कार...

जीएसटी (GST) से सरकारी ठेकेदार (Civil Contractors) बर्बादी के कगार पर – कई विकास कार्य रुके (Development Held Up).   बेचारे असहाय सिविल ठेकेदारों ...

SiteLock